Benefits of jaggery in hindi ! गुड के सेवन से होने वाले लाभ

भारत में गुड को एक पारंपरिक मिठाई के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है. वैसे तो इसका अधिकांश इस्तेमाल गांव क्षेत्र में किया जाता है, लेकिन अब शहरों में भी गुड़ का इस्तेमाल बढ़ने लगा है.

वैसे तो गुड और चीनी दोनों में ही कैलोरी की मात्रा लगभग समान होती है. लेकिन अगर गुड और चीनी दोनों की तुलना करें तो गुड कई मामलों में चीनी से अच्छा साबित हुआ है.

इसे भी पढ़ें : वजन कैसे कम करें ?

आज के इस लेख में हम गुड़ के लाभ अर्थात गुड़ के फायदे(gud benefits in hindi) के बारे में जानेंगे और गुड आपको किन-किन रोगों से बचा सकता है, इसके बारे में भी चर्चा करेंगे. तो चलिए जानते हैं 'गुड के सेवन से होने वाले लाभ' (benefits of jaggery in hindi).

{tocify} $title={Table of Contents}

कुछ लोगों का यह प्रश्न होगा कि गुड कैसा होता है? तो आपको बता दें कि गुड सुनहरे भूरे रंग से गहरे भूरे रंग का हो सकता है.

Benefit of jaggery in hindi
Benefit of jaggery in hindi

आप लोगों ने अकसर दुकानों पर गुड़ बिकते हुए देखा होगा.

Benefit of jaggery in hindi
Jaggery in hindi

गुड जितना ज्यादा पुराना होगा, उसका रंग उतना ही गाढ़ा होता जाता है और गुड़ का रंग जितना ज्यादा गहरा होगा उसका स्वाद उतना ही अच्छा होता है.

भारत के अलावा नेपाल, बांग्लादेश, पाकिस्तान, अन्य जगहों पर गुड़ का इस्तेमाल भारी मात्रा में होता है.

शहरी क्षेत्रों में गुड़ और मूंगफली से बनी चिक्की बहुत ही ज्यादा पसंद की जाती है. अगर हम विश्व स्तर की बात करें तो विश्व स्तर पर भारत का महाराष्ट्र गुड़ का सबसे बड़ा उत्पादक है. {alertInfo}

अमेरिका, एशिया और अफ्रीका में भी गुड़ का सेवन किया जाता है. 

वैसे तो गुड, 'ताड़ के रस' और 'खजूर के रस' से भी तैयार किया जाता है लेकिन गन्ने के रस से बना गुड बहुत ही स्वादिष्ट और लोगों के द्वारा अधिक पसंद किए जाने वाला गुड है.

हमारे वेदों में से एक आयुर्वेद की माने तो प्रतिदिन गुड़ का सेवन करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है और आंखें जल्दी खराब नहीं होती. 

आइए अब गुड़ के बारे में कुछ मजेदार जान लेते हैं.

गुड़ के बारे में जानकारी | (Jaggery in Hindi)

गुड़ का वानस्‍पतिक नाम: सैकेरम ओफिसिनेरम (Saccharam officinarum) है.

कुल: पोएसी

सामान्‍य नाम: गुड़

संस्‍कृत नाम: शर्करा, गुड़

नेपाली नाम : भेली

सिन्धी : गुढ़ (ڳُڙ)

भौगोलिक विवरण: ऐसा माना जाता है कि सबसे पहले गुड़ पूर्वी भारत में मिलता है जबकि ये भी कहा जाता है कि भारत में गुड़ को पुर्तगाली लेकर आए थे। विश्‍व स्‍तर पर भारत, नेपाल, बांग्‍लादेश, पाकिस्‍तान और श्रीलंका गुड़ के सबसे बड़े उत्‍पादक हैं।

रोचक तथ्‍य: गुड़ को “सुपरफूड स्‍वीटनर” भी कहा जाता है। {alertInfo}

अगर हम गुड़ को गर्म करें तो यह पहले पिघलने सा लगता है और बाद में जलने के पूर्व अत्यधिक भूरा काला सा हो जाता है। 

एनीमिया जैसी भयंकर बीमारी में डॉक्टर मरीज को चीनी के स्थान पर गुड़ के सेवन की सलाह देते हैं. 

जो भी मरीज एनीमिया(ख़ून की कमी) से जूझ रहे हैं, उन्हें सुबह खाली पेट गुड़ के साथ भीगे हुए चने या फिर अंकुरित चने खाने से लाभ मिलता है. 

जिन मरीजों में मेटाबॉलिज्म रेट बढ़ जाता है उन मरीजों को भी चिकित्सकों के द्वारा गुड़ का प्रयोग करने की सलाह दी जाती है क्योंकि गुड़ शरीर में खून की सफाई करता है और मेटाबॉलिज्म रेट को भी नियंत्रित रखता है. {alertInfo} 

इसके अलावा अगर बात करें तो गुड़ हमारे गले एवं फेफड़ों को भी संक्रमण से बचाने में लाभकारी है. 

गुड़ बनाने के लिए लोहे के उथले (जिन्हें गांव में कड़ाहा) भी कहा जाता है, इन लोहे के उथले में गन्ने के रस को भरकर उबाला जाता है. उबलते समय इस गन्ने के रस को लगातार हिलाया जाता है और इस क्रिया में जो अशुद्धिया निकलती हैं.उन्हें छानकर अलग कर लिया जाता है. 

इस क्रिया को करते रहने से गन्ने के रस में मौजूद पानी वाष्प बनकर उड़ जाता है तथा बचे हुए अर्ध ठोस गुड़ को लोहे के उथले से निकाल कर इसे अपनी आवश्यकतानुसार सांचो में ढाल लेते हैं. 

एक दिलचस्प जानकारी यह भी है कि उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में एशिया की सबसे बड़ी गुड़ की मंडी है। और इसका बाद दूसरा बडा़ बाजार भी भारत के आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम जिले में स्थित है. {alertInfo}


गुड़ में कौन-कौन से तत्व पाए जाते हैं?

देखने में तो प्रतीत नहीं होता लेकिन गुड़ में कई प्रकार के महत्वपूर्ण तत्व पाए जाते हैं.  गुड़ में सबसे ज्यादा  पानी (30-40%) पाया जाता है. उसके बाद सुक्रोज़ (40-60%) और चीनी (15-25%) पाया जाता है. ये सभी गुड़ में पाए जाने वाले मुख्य तत्व हैं. 

कुछ अन्य तत्व भी पाए जाते हैं पर उनकी मात्रा दूसरे तत्वों की अपेक्षा कम होती है. जैसे कैल्शियम (0.30%), आयरन (8.5-10mg), फॉस्फोरस (05-10mg), प्रोटीन (0.10-100mg), विटामिन बी (04-100mg) के अलावा कार्बोहाइड्रेट होती है.

गुड़ में विटामिन(Vitamins) और मिनरल्स(Minerals) की भरपूर मात्रा होती है। गुड़ के बारे में एक बहुत ही अच्छी बात यह है कि गुड़ का सेवन डायबिटीज़ के मरीज़ भी कर सकते हैं लेकिन इसके बारे में एक बार अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य ले.


गुड़ के सेवन से होने वाले लाभ (Gud benefits in hindi) - Benefit of Jaggery in hindi

साँस की समस्या के मरीजों के लिए फायदेमंद: 

जिन मरोजो को साँस लेने में दिक्कत होती है, उनके लिए गुड़ एक अच्छी औषधि का काम करता है. इसके साथ ही चिकित्सकों द्वारा दमा और अस्‍थमा के मरीज़ों को भी गुड़ खाने की सलाह दी जाती है.

एसिडिटी और खट्टी डकार के मरीजों के लिए लाभकारी:

एसिडिटी से परेशान मरीजों के लिए गुड़ बहुत ही लाभकारी होता है. सुबह ब्रश करने के बाद गुड़ के साथ पानी पीने से गैस(एसिडिटी) से आराम मिलता है तथा खाना खाने के बाद गुड़ खाने से खाना अच्छी तरह और जल्दी पच जाता है. 

जिन मरीजों को खट्टी डकार की परेशानी होती है उन्हें गुड़, सेंधा नमक और काला नमक मिलाकर खाने से खट्टी डकारों से छुटकारा मिल जाता है.

ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है

जिन लोगों का ब्लड प्रेशर अचानक बढ़ जाता है तो ऐसे में गुड़ का सेवन लाभकारी होता है. हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को सुबह खाली पेट गुड़ के सेवन की सलाह दी जाती है. 

Benefits of Jaggery with Milk in Hindi: 

  • अगर हम Benefits of jaggery with milk in hindi अर्थात गुड़ के साथ दूध पीने के फायदे की बात करें तो - इसके इस्तेमाल से पाचन क्रिया से जुड़ी सारी बीमारियां दूर हो जाती है. साथ ही इसका सेवन करने से पेट में गैस नहीं बनती जिस से अन्य बीमारियां भी दूर रहती हैं.
  • महिलाओं में पीरियड्स दौरान होने वाले दर्द से बचाव के लिए घरेलू नुश्खे के तौर पर गरम दूध में गुड़ डालकर कर पीने की सलाह दी जाती है.
  • खाँसी, जुकाम व गले में खराश जैसी परेशानियां होने पर भी गुड़ के साथ अदरक, मिर्च व बड़ी इलायची का काढ़ा बना कर पीने से बीमार व्यक्ति को लाभ मिलता है.

Benefits of jaggery tea in hindi (गुड़ का चाय बना कर पीने से लाभ)

शुगर के मरीजों को चीनी अर्थात शुगर का इस्तेमाल करना allow नहीं होता, परन्तु ऐसे मरीज कुछ मात्रा में शुगर के जगह पर गुड़ का इस्तेमाल कर सकते हैं.

परन्तु इसके बारे में एक बार अपने चिकित्सक(डॉक्टर) से परामर्श अवश्य लें.

स्वस्थ्य व्यक्ति अगर शुगर(चीनी) के स्थान पर गुड़ का इस्तेमाल करे तो वह शुगर जैसी भयँकर बीमारी से बचा रहेगा.

इसे भी पढ़ें : घी खाने के फायदे 

Conclusion : Benefits of jaggery in hindi

हमें आशा है कि गुड़ के सेवन से होने वाले लाभ नाम से लिखे गए इस लेख से आपको जरूर कुछ न कुछ फायदा जरूर हुआ होगा। एक बात का ध्यान अवश्य दें कि कभी भी गुड़ का सेवन अधिक मात्रा में न करें क्यूंकि किसी भी खाद्य पदार्थ का सेवन अधिक मात्रा में करने से वह फायदे  जगह नुकसान करने लगता है.

(गुड़ का चाय) Benefits of Jaggery with Milk in Hindi अधिकांशतः ग्रामीण क्षेत्रों में पीया जाता है. यह शरीर में ऊर्जा का संचार करता है.

गुड़ के फायदे तो बहुत से हैं: स्किन से जुडी हुई कई बिमारियों में भी गुड़ लाभकारी है. लेकिन गुड़ और चना एक साथ खाने पर इसके चमत्कारी लाभ होते हैं. रात में चने को 2 से 3 बार धो कर एक साफ़ बर्तन में पानी में भीगा कर रख दें.

सुबह खाली पेट गुड़ और चने का सेवन खून की कमी को दूर करता है. ऐसे ही गुड़ के बहुत से लाभ होते हैं.

अगर आपको इस लेख से जुड़ी और भी जानकारी चाहिए तो हमें comment box में जरूर बताएं। साथ ही ये भी बताएं कि आपको इस विषय के बारे में जानना है. हम उसके बारे में एक विस्तृत लेख अवश्य लिखेंगे.

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post